किसका रस्ता देखे,ऐ दिल ऐ सौदाई

किसका रस्ता देखे,ऐ दिल ऐ सौदाई
किसका रस्ता देखे,ऐ दिल ऐ सौदाई

मीलों है खामोशी,बरसों है तन्हाई
भूली दुनिया कभी की,तुझे भी मुझे भी,
फिर क्यूँ आँख भर आई
हो किसका रस्ता देखे ऐ दिल ऐ सौदाई

कोई भी साया नहीं राहों में,कोई भी आएगा ना बाहों में
तेरे लिए मेरे लिए,कोई नहीं रोने वाला, हो
झूठा भी नाता नहीं चाहूँ मैं,तू ही क्यूँ डूबा रहे आहों में
कोई किसी संग मरे,ऐसा नहीं होने वाला
कोई नहीं जो यूं ही जहाँ में,बांटें पीर परायी
हो,किसका रस्ता देखे,ऐ दिल ऐ सौदाई

तुझे क्या बीती हुई रातों से,मुझे क्या खोई हुई बातों से
सेज नहीं चिता सही,जो भी मिला सोना होगा,हो
गयी जो डोरी छूती हाथों से,लेना क्या टूटे हुए साथों से
ख़ुशी जहां मांगी तूने,वहीँ मुझे रोना होगा
ना कोई तेरा ना कोई मेरा, फिर किसकी याद आई

हो किसका रस्ता देखे,ऐ दिल ऐ सौदी
मीलों है खामोशी,बरसों है तन्हाई
भूली दुनिया कभी की तुझे भी
मुझे भी फिर क्यूँ आँख भर आई